Homeकरियरयात्रा पड़ावों से टैन्टो,ढाबों व होटलों को हटाने पर तुंगनाथ घाटी के...

यात्रा पड़ावों से टैन्टो,ढाबों व होटलों को हटाने पर तुंगनाथ घाटी के व्यापारियों में आक्रोश

ऊखीमठ से वरिष्ठ पत्रकार लक्ष्मण सिंह नेगी की रिपोर्ट –

ऊखीमठ! वन विभाग द्वारा तुंगनाथ घाटी(Tungnath Valley) के विभिन्न यात्रो पड़ावों पर संचालित टैन्टो,ढाबों व होटलों को हटाने का फरमान जारी होते ही तुंगनाथ घाटी के व्यापारियों में शासन – प्रशासन व वन विभाग के खिलाफ आक्रोश बन गया है! स्थानीय व्यापारियों का कहना है कि एक तरफ प्रदेश सरकार युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के बड़े – बड़े दावे कर रही है दूसरी तरफ वन विभाग अतिक्रमण हटाने का फरमान जारी कर स्थानीय व्यापारियों का मानसिक उत्पीड़न कर रही है, कहा कि वैश्विक महामारी कोविड 19 के कारण विभिन्न प्रदेशों से अपनी माटी में लौटे कई युवाओं ने तुंगनाथ घाटी में अपने दुकाने खोलकर आत्मनिर्भर की दिशा में कार्य कर रहे है तथा प्रदेश सरकार की पहल पर वन विभाग अतिक्रमण हटाने का फरमान जारी कर रहा है!

यह भी पढ़ें :जिलाधिकारी द्वारा की गई कौशल विकास केंद्रों की वर्तमान स्थिति की गहन समीक्षा

कहा कि जिन बाहरी पूजीपतियो ने तुंगनाथ घाटी(Tungnath Valley) के सुरम्य मखमली बुग्यालों में अतिक्रमण कर रखा है उनका अतिक्रमण हटाने का प्रयास वन विभाग ने कभी नहीं किया जबकि स्थानीय बेरोजगार युवाओं को बार – बार परेशान किया जा रहा है! बता दे तुंगनाथ घाटी के चोपता, बनियाकुण्ड, दुगलविट्टा सहित विभिन्न यात्रा पड़ावों पर व्यवसाय कर रहे चार दर्जन से अधिक व्यापारियों को नोटिस जारी कर अतिक्रमण हटाने का फरमान जारी किया गया है! आज से तीन वर्ष पूर्व भी जिला प्रशासन तुंगनाथ घाटी के व्यापारियों को अतिक्रमण हटाने का फरमान जारी कर चुका था तथा उस समय कुछ व्यापारियों ने अपने होटल, ढाबो को समेटने की कवायद शुरू कर दी थी मगर बाहरी पूजीपतियो का अतिक्रमण यथावत रहने से जिला प्रशासन व वन विभाग की कार्य प्रणाली सवालों के घेरे में आ गयी थी !

यह भी पढ़ें :सौर भूतनाथ तीर्थ में मिलता हैं मन इच्छित फल ,आप भी जानें महिमा

स्थानीय व्यापारियों की मांग पर जिला प्रशासन द्वारा व्यापारियों को ई डी सी का गठन करने का आश्वासन दिया था कि तुंगनाथ घाटी में होटल, ढाबो व टैन्टो के सचालन के लिए ई डी सी का गठन किया जायेगा तथा ई डी सी के तहत सभी होटलों, ढाबो व टैन्टो का संचालन होगा मगर आज तक ई डी सी का गठन न होना स्थानीय व्यापारियों के साथ नाइन्साफी हुई है! जिस प्रकार वन विभाग ने तुंगनाथ घाटी के विभिन्न यात्रा पड़ावों से अतिक्रमण हटाने का फरमान जारी किया है उससे तुंगनाथ घाटी के दो हजार से अधिक युवाओं के सन्मुख दो जून रोटी का संकट खड़ा हो सकता है तथा बाहर से आने वाले सैलानियों को सुविधा न मिलने पर स्थानीय पर्यटन व्यवसाय खासा प्रभावित हो सकता है!

यह भी पढ़ें :पी एम जी एस वाई की लापरवाही से भणज – अखोडी मोटर मार्ग जानलेवा

स्थानीय व्यापारी मोहन मैठाणी, सतीश मैठाणी, प्रदीप बजवाल का कहना है कि स्थानीय व्यापारियों, जिला प्रशासन व वन विभाग के सयुक्त तत्वावधान में ई डी सी का गठन होना चाहिए तथा ई डी सी के मानको के तहत होटल, ढाबो व टैन्टो का संचालन होना चाहिए जिससे बुग्यालों की सुन्दरता कायम रहे तथा स्थानीय व्यापारियों का रोजगार भी कायम रहे साथ ही प्रदेश के राजस्व में भी इजाफा हो सके!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments